भारतीय इतिहास में महिलाओं का योगदान

 भारतीय   इतिहास   में   महिलाओं   का   काफी   योगदान  रहा   है । पुरुष  प्रधान  समाज  में  महिलाओं  को  अपनी  छवि  बनाने  में  अक्सर  बहुत  ज्यादा  मेहनत  लगती  है । लेकिन  ऐसी  कुछ  महिलाएं  हैं  जिन्होंने  पिछले  कई  सालों  या  कई  दशकों  या  कह  ले   इतिहास  में  एक  कर्तव्य  निभाया  व  समाज  के  उत्थान  को  लेकर  परम  योगदान …

बचत से सवारें बजट

  मौजूदा   हालात  में  बचत  की  पारंपरिक  परिभाषा  बदल  गई  है  अब  इसका  मतलब  यह  बिल्कुल  नहीं  है  कि  आप  अपने  घर  पर  कैश  बचा  कर  रखें  बल्कि  कुछ  भी  खरीदने से  पहले  यह  सोचना  जरूरी  है  कि  क्या  वाकई  आपको  इसकी  जरूरत  है  या  नहीं । अगर  पल  भर  के  लिए  भी आपको …

मुझे गर्व है कि मैं एक महिला हूं

अगर  किसी  महिला  से  पूछा  जाए  कि  उसे  अपने  स्त्री  होने  पर  गर्व  क्यों  है  तो  वह  शायद  ही  इसके कारण  गिना  सकेगी  इसकी  वजह  यह  है  कि  स्त्रियों  में  इतने  गुण  होते  हैं  कि  उन्हें  गिनना  किसी   के   लिए   नामुमकिन   होता   है ।   प्रकृति   का   हर  नियम  संतुलित   व   सच्चा   होता   है । जहां …

जीवनसाथी – दिया और बाती

 रिश्ता  कोई  भी  हो  उसमें  अपनेपन  का  एहसास  जरूरी  है । विवाह  बंधन  उम्र  भर  का  बंधन  होता  है  एक  दूसरे  के  साथ  हर  परिस्थिति  में  खड़े  रहना , एक  दूसरे  के  ढाल  बनना , आपसी  प्रेम  विश्वास  व  सहयोग  को   बढ़ावा  देना  जरूरी  होता  है। दुनिया  के  सामने  आपने  एक  दूसरे  का  हाथ …

अपनी शिक्षा से दिखा रही समाज को रास्ता

 एक  शिक्षित  महिला  पूरे  परिवार  को  शिक्षित  बनाती  है  यह  सभी  जानते  हैं | लेकिन  इन  महिलाओं  की कहानी  बताती  है  कि  वास्तव  में  कैसे  महिलाएं  अपनी  शिक्षा  से  समाज  को  रास्ता  दिखा  रही  हैं  वे  अपनी शिक्षा  को  सिर्फ  घर  तक  सीमित  नहीं  रखती  बल्कि  पूरे  समाज  की  सेवा  और  उत्थान  के  लिए  उपयोगी …

अंतर्द्वंद- मन का अंधकार करें दूर

 आज  संसार  का  हर  व्यक्ति  दुविधा  से  ग्रस्त  है  क्योंकि  वह  सिर्फ  निजी  स्वार्थ  के  बारे  में  सोचता  है  लेकिन अपने  लिए  सारी  सुख – सुविधाएं  जुटा  लेने  के  बावजूद  वह  अंदर  से  खालीपन  महसूस  करता  है | आज हमारे  पास  भौतिक  सुख-सुविधाओं  के  हजारों  विकल्प  मौजूद  हैं  और  गहरी  आसक्ति   की  वजह  से …

महिलाएं और ई वॉलेट

ऑनलाइन  बैंकिंग  के  माध्यम  से  भुगतान  करने  वालों  के  मन  में  हमेशा  असुरक्षा  की  भावना  होती  है  हमें डर  सताता  रहता  है  कि  भुगतान  के  समय  बैंकों  में  जमा  बड़ी  राशि  में  कहीं  किसी  तरह  का  साइबर क्राइम  की  सेंध  ना  लग  जाए  ई-वॉलेट  ने  इसी  असुरक्षा  की  भावना  को  कम  किया  है।     …

उपहार का मनोविज्ञान

                                                                          उपहार , तोहफा , गिफ्ट  यह  शब्द  जुबान  पर  आते  ही  एक  अलग  तरह  की  खुशी  मिलती  है |…

भावनात्मक रूप से कितनी फिट हैं आप

 क्या  आप  छोटी-छोटी  बातों  से  भी  उदास  हो  जाती  हैं  छोटी  सी  बात  पर  भी  आपको  बहुत  गुस्सा  आता  है  और  आप  रोने  लग  जाती  हैं  तो  इसका  मतलब  यह  है  कि  आप  भावनात्मक  रूप  से  फिट  नहीं  है। हंसना  रोना  जिंदगी  का  एक  हिस्सा  है  लेकिन  छोटी -छोटी  बातों  पर  रूठ  जाना  और  रोने …

ग्रामीण समाज व भारत में ग्रामीण महिलाओं की बदलती तस्वीर

 ग्रामीण  समाज  एक  ऐसी  सामाजिक  व्यवस्था  वाली  मनोवृति  पर  आधारित  है  जो  कि  यह  मानकर  चलता  है  कि  महिलाएं  दोयम  दर्जे  की  नागरिक  हैं। भारत  की  70%  आबादी  गांवों  में  रहती  है। ग्रामीण  क्षेत्रों  में महिलाएं  बड़े  पैमाने  पर  एनीमिया , कुपोषण  आदि  से  ग्रसित  रहती  हैं । ग्रामीण  महिलाओं  की  संपत्ति  स्वास्थ्य  शिक्षा  आदि …