नकारात्मक सोच रिश्तों में दरार

हमारे  आस – पास  हज़ारों  तरह  के  रिश्ते  बुने  होते  हैं | घर  में  माता-पिता , भाई – बहन  जैसे  अनमोल  रिश्ते  तो  बाहर  की  दुनिया  में  दोस्तों  व  सखी  सहेलियों  के  रूप  में  और  विवाह  के  बाद  किसी  रिश्ते  की  भाभी , मामी , चाची  और  बहू  के  रूप  में | रिश्ते  को  मजबूत …

नयी शिक्षा नीति 21वीं सदी के नए भारत की नींव

वर्षों  से  शिक्षा  व्यवस्था  में  बड़े  बदलाव  न  होने  से  समाज  में  जिज्ञासा  व  कल्पना  के  मूल्यों  को  बढ़ावा  मिलने   के  जगह  भेड़चाल  को  बढ़ावा   मिलने  लगा  था | युवाओं  में  डॉक्टर , इंजीनियर , तो  कभी  वकील  बनने  की  होड़  लगी  थी | रूचि , योग्यता  व  मांग  की  जरूरत  समझे  बिना …

महिला सशक्तिकरण

महिला  सशक्तिकरण  को  बेहद  आसान  शब्दों  में  परिभाषित  किया  जा  सकता  है  कि  इससे  महिलाएं  शक्तिशाली  बनती  हैं | जिससे  वह  अपने  जीवन  से  जुड़े  हर  फैसले  स्वयं  ले  सकती  हैं  और  परिवार  तथा  समाज  में  अच्छे  से  रह  सकती  हैं | समाज  में  उनके  वास्तविक  अधिकार  को  प्राप्त  करने  के  लिए  उन्हें  सक्षम  बनाना …

कोरोना काल में महिलाओं की जीवन-शैली

आज  इस  वैश्विक  महामारी  के  दौर  में  हर  तरफ  भय  व्याप्त   है |  कोरोना  काल  में  आस-पास  के  लोगो  को    देखकर  मन  भयभीत  हो  जाता  है  लोग  कहते  है  कि  प्रकृति  बदला  ले  रही  है  परन्तु  मैं  उसमे  एक  बात  और  जोड़ना  चाहती  हूँ  कि  हमारा  स्वार्थी  स्वाभाव , एकछ्त्र  सत्ता  की  चाह…

महिला समाज की धुरी

महिला  समाज  का  दर्पण  होती  है  यदि  किसी  समाज  की  स्थिति  को  देखना  है  तो  वहां  की  नारी  की  अवस्था को  देखना  होगा | राष्ट्र  की  प्रतिष्ठा , गरिमा , उसकी  समृद्धि  पर  नहीं  वरन  उस  राष्ट्र  के  सुसंस्कृत  व  चरित्रवान  नागरिको  से  है  और  राष्ट्र  को , समाज  को  ये  संस्कार  देती  है  एक …